मूंग दाल के फायदे, उपयोग और नुकसान – Mung Beans Benefits and drawbacks in Hindi

 

मूंग दाल के फायदे, उपयोग और नुकसान – Mung Beans Benefits and drawbacks in Hindi

mung dal ke fayade in hindi
image mung beans from pixabay

मूंग दाल के फायदे, उपयोग और नुकसान

दालें स्वाद और सेहत के हिसाब से  बहुत महत्वपूर्ण होती हैं। इन्हीं दालों में से एक है मूंग की दाल। इसे हरी दाल के नाम से भी जाना जाता है। जहां एक ओर मूल रूप से इसका सेवन एशिया, यूरोप और अमेरिका में किया जाता है, वहीं भारत में मूंग दाल मुख्य भोजन का हिस्सा होने के साथ-साथ हमें स्वस्थ रखने में भी अहम भूमिका निभाती है। 


मूंग दाल के उपयोग – How to Use Mung Beans in Hindi

मूंग दाल का उपयोग कई प्रकार से किया जा सकता है। इस आर्टिकल में हम आपको मांग दाल के कुछ उपयोग बताने जा रहे है |


१- मूंग दाल का उपयोग स्प्राउट बनाने के लिए भी किया जाता है।

२- मूंग दाल से स्वादिस्ट  दाल बनाई जाती है।

३- मूंग दाल का उपयोग फेस मास्क बनाने के लिए कर सकते हैं।

४- बालों के लिए भी मूंग दाल के फायदेमंद होती हैं। इसका उपयोग हेयर मास्क के रूप में भी किया जा सकता है।

५- दक्षिण भारत में इसका उपयोग सांभर और चटनी बनाने के लिए किया जाता है।

६- मूंग दाल का उपयोग करके स्वादिष्ट हलवा व अन्य मिठाई बनाई जा सकती हैं।



मूंग की दाल क्यों है खास :


भारत में ज्यादातर लोग नाश्ते में स्प्राउट्स के रूप में मूंग की दाल खाते हैं। साथ ही  डॉक्टर भी इसके सेवन की सलाह देते हैं। इसके पीछे मुख्य कारण है, इस दाल में पाए जाने वाले पोषक तत्व है , जो कि शरीर को स्वस्थ बनाये रखने में महत्वपूर्ण भूमिका अदा करते है | एनसीबीआई (नेशनल सेंटर फॉर बायोटेक्नोलॉजी इंफार्मेशन) की वेबसाइट पर प्रकाशित शोध के अनुसार, मूंगदाल में प्रचुर मात्रा में पोषक तत्व होते हैं। इसमें शारीरिक स्वस्थता के लिए जरूरी फ्लेवोनोइड्स, फेनोलिक एसिड, कार्बनिक एसिड, अमीनो एसिड, कार्बोहाइड्रेट और लिपिड जैसे पोषक तत्वों की अच्छी मात्रा पाए जाते है। इसके अलावा, मूंग दाल में एंटीऑक्सीडेंट, एंटीमाइक्रोबियल, एंटीइंफ्लेमेटरी, एंटीडायबिटिक, एंटीहाइपरटेंसिव और एंटीट्यूमर गुण पाए जाते हैं, जो कई बीमारियों को दूर करने में मददगार हो सकते हैं 


अक्सर बीमार हो जाने पर डॉक्टर्स मूग की दाल का सेवन अवस्य ही बताताते है | चाहे बीमारी बुखार हो या फिर पेट से सम्बन्धित हो |  मूग की दाल के अंदर कई प्रकार के फाइटोन्यूट्रिऐंट्स होते है , जो की बीमार लोगो के लिए बहुत फायदेमंद होते है | बुखार , पेट दर्द , डायरिया अदि में बहुत ही लाभदायक है | तो आइये जानते है मूंग की दाल के फायदे |


कोलैस्ट्रोल कम करने का करती है कम :

मूंग की दाल में हाइपोकोलेस्ट्रोलेमिया यानी कोलेस्ट्रॉल को कम करने में सक्षम पाया जाता है। इस क्षमता के कारण मूंग की दाल रक्त में माैजूद कुल कोलेस्ट्रॉल और एलडीएल (खराब) कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम कर सकती हैं। इस आधार पर यह कोलेस्ट्रॉल को बढ़ने से रोकने के साथ ही इसके स्तर काे कम करने में फायदेमंद हो सकते हैं , जिससे रक्त चाप सामान्य रहता है और हार्ट अटैक जैसी बीमारिया दूर रहती है , कोलैस्ट्रोल कम होने से शरीर का बजन भी सामान्य रहता है , और आप मोटापे का शिकार भी नहीं होंगे |


ह्रदय के लिए फायदेमंद :

मूंग की दाल में ह्रदय से सम्बन्धित रोगो से ह्रदय को बचाये रखने के कई औषधीय तत्व मैजूद होते है | मूंग की दाल खाने से कोलैस्ट्रोल कम होता है , धमनिया साफ और स्वच्छ रहती है ,ब्लड सर्कुलेशन दुरुस्त रहता है , और हृदय से संबंधित बीमारिया दूर रहती है | साथ ही साथ ब्लड प्रेसर लो और हाई होने के चांस कम हो जाते है | इसके अतिरिक्त  पेट दर्द , डायरिया , बुखार , इत्यादि भी नहीं होता |


एक बेहतर इम्युनिटी बूस्टर :

मूंग दाल खाने से शरीर के अंदर इन्फेक्शन और इम्युनिटी बूस्ट होती है , मूग की दाल के अंदर कई प्रकार के फाइटोन्यूट्रिऐंट्स होते है , ये शरीर में हानिकारक वेक्टीरिया और वायरस से लड़ने सक्षम होते है | इसलिए इसे  इम्युनिटी बूस्टर के रूप में भी इस्तेमाल किया जा सकता है |

mung dal ke fayade in hindi



बजन घटने में है मददगार :

मूंग कक दाल में फायबर भी उचित मात्रा में मिलता है , फायबर और प्रोटीन दोनों ही बजन घटने में मददगार होते है  इसलिए मूंग दाल भी एक बजन घटने के लिए अपनी डाइट प्लान में शामिल कर सकते है | सबसे अच्छी बात मूंग दाल के बने सामान खाने में हलके होते है साथ साथ पेट भरा भरा लगता रहता है |


पाचनक्रिया को दुरुस्त करता है :

कुछ दाल और सेम की फलिया कुछ लोगो के पेट में गैस और पैर फूलने जैसी समस्या करती है , लेकिन हरी मूंग दाल पचने में बहुत आसान होती है | हरी मूंग दाल पकने से पहले अगर पानी में भिगो के रखने से ये जल्दी से पक जाती है | इसका सेवन आप भिगो कर अंकुरित करके भी सुबह खली पेट खाने से बहुत लाभ देती है | मूंग दाल के अंदर एंटी एंजिग प्रॉपर्टीज होती है जो की बढ़ती उम्र के साथ  चेहरे पर आयी झूरियो को कम करने में सहायक होती है | अक्सर लोग मांग दाल को बीमारी बली दाल बताते है , लेकिन शायद कम लोगो को ही इस का अंदाज़ा होगा की मूंग दाल पाचन क्रिया को दुरुस्त करने में बहुत लाभदायक होती है | इसके अंदर पाए जाने बाले पोषक तत्व शरीर के लिए बहुत ही फायदेमंद होते है |


प्रोटीन भी पाया जाता है भरपूर मात्रा में :

शाकाहारी लोगो के लिए सम्पूर्ण प्रोटीन का श्रोत होता है , १०० ग्राम मूंग दाल में करीब २४ ग्राम प्रोटीन और ६०% अमीनो एसिड पाया जाता है | जो कि मसहरी भोजन से कही भी कम नहीं है , जिम करने बाले सहकारी लोगो के लिए आवश्यक प्रोटीन के लिए मूंग दाल एक बेहतर बिकल्प हो सकता है | मांग दाल केबल मरीजों के लिए ही नहीं , बल्कि कोई भी इसका इस्तेमाल कर सकता है और इसके पोषक तत्वों का इस्तेमाल कर सकता है , जो कि शरीर के लिए फायदेमंद होता है |

For more information about Weight Loss>>>


इन बीमारियों से भी बचती है मांग दाल :

हार्ट प्रोब्लम में बचाव 

ब्लड प्रेशर कंट्रोल 

वेट लॉस करती है 

एनीमिया से बचाव 

स्किन प्रॉब्लम में बचाव 

कब्ज दूरी करती है 

कैंसर से बचाव 

बीमारियों से बचाव


एक दिन में 100 ग्राम तक मूंग दाल का सेवन किया जा सकता है। इसके अलावा, एक कटोरी मूंग दाल स्प्राउट का सेवन कर सकते हैं। और अगर आपको कोई दिक्कत है तो  आप अपने डॉक्टर से सलाह जरूर ले , डॉक्टर के द्वारा बताई हुयी डाइट के अनुसार ही इसका सेवन करे |



आइये जान लेते है मांग दाल से हो सकने बाले नुकसान के बारे में :
मूंग दाल के नुकसान – Side Effects of Mung Beans 


मूंग दाल के फायदे के साथ साथ अधिक मात्रा में सेवन से नुकसान भी हो सकते है , आइये जानते है |


१-मूंग दाल का उपयोग लो शुगर की समस्या वालों के लिए नुकसानदायक हो सकता है। इसमें मौजूद एंटीडायबिटिक गुण रक्त में मौजूद शुगर के स्तर को कम कर सकता है। इससे यह हानिकारक प्रभाव दिखा सकता है |

२- जिन लोगों की त्वचा संवेदनशील होती है या फिर जिन्हें एलर्जी की समस्या होती उनके लिए मूंग दाल से बना फेस मास्क हानिकारक हो सकता है।

३- इसमें एंटीहाइपरटेंसिव गुण होता है। इसलिए, अगर किसी का रक्तचाप पहले से कम है, तो इस अवस्था में मूंग दाल के सेवन से समस्या और बढ़ सकती है |


Health से सम्बन्धित और भी आर्टिकल पढ़ने के लिए यहां क्लिक करे >>>


Read more tech articles - https://www.pixelnatures.in




Post a Comment

3 Comments