What is NRA for central Examination , what is nra and cet , what is nra in hindi , New Education Policy 2020 , nra subject full form in hindi, Meaning of NRA in hindi

 


अब एक होगी भर्ती परीक्षा , साल में दो बार CET कराएगी NRA , जानिए क्या होगा एग्जाम पैटर्न , क्या क्या होंगे फयदे , What is NRA



What is NRA In Hindi


Meaning of NRA in hindi :

केंद्रीय केबिनेट ने कई अहम फैसले लिए है , अब केंद्र सरकार की सरकारी नैकरियो के लिए एक ही परीक्षा कराएगी | केंद्रीय मंत्रिमंडल ने सरकारी नौकरियों की भर्ती के लिए नेशनल रिक्रूटमेंट एजेंसी (NRA) के गठन को मंजूरी प्रदान कर दी है | अब से एनआरए केंद्रीय भारतीयों के लिए एक कॉमन एग्जाम CET कराएगी | इस साल के बजट के दौरान ही NRA के गठन का एलान कर दिया था |  इससे करीब तीन करोड़ अभ्यर्थियों को एक से अधिक परीक्षाओ में बैठने से बच सकेंगे , इसकी शुरुआत इसी साल बैंकिंग , रेलवे और एसएससी की परीक्षाओ को मर्ज करने से होगी , बाद में अन्य परीक्षाएं भी मर्ज कर दी जाएगी , इसमें ऐसा प्राबधान बताया जा रहा है |

IPl और CPL के बारे में जानने के लिए यहां पढ़िए >>>

एक साल में दो बार होगी CET की परीक्षा :

केबिनेट के मंजूरी देने के बाद केबिनेट मंत्री प्रकाश जाबेदकर ने बताया की NRA साल में दो बार कॉमन एलिजिबिलिटी टेस्ट कराएगा | अभी बैंकिंग , रेलवे , एसएससी , के कुल मिला कर ३ करोड़ उम्मीदबार बैठते है| अभी प्रथम चरण में इन्हे मर्ज किया जायेगा , जिससे इन उम्मीदबरो को अलग अलग परीक्षाएं नहीं देनी पड़ेगी |


तीन साल तक मान्य रहेगी मैरिट सूची :

डॉक्टर जिंतेंद्र ने बताया की केबिनेट के नए नियमो के अनुसार CET में सफल उम्मीदबरो की एक मैरिट लिस्ट तैयार की जाएगी, सफल उम्मीदबारो मैरिट लिस्ट तीन साल के लिए मान्य रहेगी | हालाँकि जो उम्मीदबार अपना स्कोर कार्ड बेहतर करना चाहते है वो दुवारा परीक्षा में बैठ सकते है |

जो उम्मीदबार प्रारम्भिक परीक्षा में पास होंगे उन्हें उन्हें एसएससी , रेलवे,बैंकिंग की दूसरे चरण की परीक्षा में बैठने दिया जायेगा | साफ कर दिया जाये की प्रारंभिक परीक्षा ही मर्ज की जाएगी , बाकी अन्य औपचारिक परीक्षाएं विधिबत रहेगी |


अभी कई एजेंसियां करती है परीक्षाएं आयोजित :

केंद्रीय मंत्री प्रकाश जाबेदकर ने कहा कि अभी कई एजेंसिया परीक्षा आयोजित करती है | अभी केबल तीन परीक्षाएं ही मर्ज की जा रही है , बाद में अन्य परीक्षाओ को भी मर्ज किया जायेगा | अभी केंद्र की करीब २० एजेंसिया परीक्षाये करती है | जो चरणबद्ध तरीके से इसमें सम्मलित हो जाएगी | साथ ही साथ मंत्री ने कहा कि राज्य स्तर भी इसी तरह के कदम उठाने चाहिए | निजी क्षेत्र इस परीक्षा के स्कोर के आधार पर उम्मीदबारो का सिलेक्शन कर सकता है | अभी  उम्मीदबारो को एक से अधिक परीक्षाएं देनी होती है , इसलिए इसे समाप्त करने के लिए हमने ये ऐतिहासिक फैसला किया है |


क्या क्या होंगे फायदे :

१- सबसे बड़ा फायदा उम्मीदबारो को अलग अलग परीक्षा देने से छुटकारा मिलेगा साथ साथ , समय और पैसा भी बचेगा |


२- परीक्षा केंद्र अलग शहरो में होते थे , इससे मुक्ति मिलेगी |


३- परीक्षा तारीख एक ही पड़ने पर उम्मीदबारो को कोई एक परीक्षा छोड़नी पड़ती थी , अब ऐसा नहीं होगा |


४- अब परीक्षा केंद्र दूर नहीं होगा , जिला मुख्यालय पर एक परीक्षा केंद्र बनाया जायेगा |


५- एक ही परीक्षा फॉर्म भरना होगा , यातायात पर होने वाला खर्च बचेगा साथ ही साथ परीक्षा फीस भी बचेगी |


६- परीक्षा के रिजल्ट आने में समय १२ से १८ महीने लगते है , इसका समय घटेगा |


 एक परीक्षा योजना है काफी कारगर और सफल :

केंद्र सरकार ने पूर्व में भी mbbs की अड्मिशन परीक्षा एक की थी जो सफल रही है | जबकि उससे पहले हर राज्य की एक अलग परीक्षा होती थी | इसी प्रकार प्रतियोगी परीक्षाओ के आयोजन के लिए एजेंसी NTA का गठन किया |


ग्रुप बी और सी को बड़ी राहत : 

  ग्रुप बी और सी की प्रारंभिक परीक्षा की एलिजिबिलिटी एक ही होती है , परन्तु हर एक बोर्ड की अलग अलग परीक्षा पैटर्न होने के कारण उन्हें अलग अलग तरह की तयारी करनी पड़ती है , अब ऐसा नहीं होगा , एक ही पैटर्न और एक ही तरह की तयारी करनी होगी |


Read Here New Education policy in India 2020


Post a Comment

0 Comments